achchha lagegaa..

तुम जो कभी आ कर मिलो, अच्छा लगेगा.

हमने माना स्वार्थी हैं लोग सारे
कर भरोसा जानता हूँ तुम भी हारे
आजमाओ, दिल मेरा सच्चा लगेगा.

तुम जो कभी आ कर मिलो, अच्छा लगेगा.

याद कर गुज़रा समय संताप होता,
बातें तुम्हारी याद कर मैं आप रोता.
गर वो घड़ी लौटे कभी अच्छा लगेगा

तुम जो कभी आ कर मिलो, अच्छा लगेगा.

थक गया हूँ, दे सदा मैं, बार बार,
चाहत मेरी गुजरी है तुमपे नागवार,
भूल जो जाऊँ तुम्हे अच्छा लगेगा?

तुम जो कभी आ कर मिलो, अच्छा लगेगा.

This entry was posted in Hindi, My Poems. Bookmark the permalink.

Leave a Reply