Ladakpan

Laauun kahan se ab wo muskaanaa ladakpan ka,
KahiNpe kho gaya hai ab wo mastaana ladakpan ka

लाऊँ कहाँ से अब वो मुस्काना लड़कपन का,
कहीं पे खो गया है अब वो मस्ताना लड़कपन का.

Kar doon bayan ik baar unse dard-e-dil jo main,
Khudaya khatm ho jaye wo afsaana ladakpan ka

कर दूँ बयाँ इक बार उनसे दर्द-ए-दिल जो मैं,
खुदाया खत्म हो जाए वो अफ़साना लड़कपन का.

Wo shaql maaN ki aankh ko kar detii hai purnam,
Mujhe Jab yaad aataa hai wo behlaana ladakpan ka.

वो शक्ल माँ की, आँख को कर देती है पुरनम,
मुझे जब याद आता है वो बहलाना लड़कपन का.

Kabhi iqraar kartaa hai na ye inqaar kartaa hai,
Banaa detaa hai mera yaar bahanaa ladakpan ka.

कभी इकरार करता है न ये इनकार करता है,
बना देता है मेरा यार बहाना लड़कपन का.

Wo maatii lage haathon mere ashqon ko ponchhna,
NahiN mumkin raha ab waisaa yaraanaa ladakpan ka.

वो माटी लगे हाथों मेरे अश्कों को पोंछना,
नहीं मुमकिन रहा अब वैसा याराना लड़कपन का.

Na koi fikr ya uljhan na koi khalish hi thii “Ashok”,
Bahut aataa hai hamko yaad zamaanaa ladakpan ka.

न कोई फिक्र या उलझन न कोई खलिश ही थी “अशोक”,
बहुत आता है हमको याद ज़माना लड़कपन का.

This entry was posted in Ghazals, My Poems. Bookmark the permalink.

Leave a Reply