manzil

Baarahaa ruk kar safar me sochata hun main,
Jab Ru-baru hogi kahegi kya meri manzil.

बारहा रुक कर सफ़र में सोचता हूँ मैं,
जब रु-बरु होगी कहेगी क्या मेरी मंजिल.

(बारहा = बार बार, रु-बरु = face to face)

Yun der hone se nahin nuksaan kuchh lekin,
Dar hai kahin mujh si na ho tanha miri manzil.

यूँ देर होने से नहीं नुकसान कुछ लेकिन,
डर है कहीं मुझ सी न हो तनहा मिरी मंजिल.

Hairan hun main is ghardish-e-hastii ko dekhkar,
raste hain ye Purpench aur hai sarfiri manzil

हैराँ हूँ मैं इस ग़र्दिश-ए-हस्ती को देखकर,
रस्ते हैं ये पुरपेंच और है सरफिरी मंजिल.

Faasalaa kam ho bhalaa kyonkar ye batlaao,
Main ik kadam to do kadam hatatii meri manzil

फासला कम हो भला क्योंकर ये बतलाओ,
मैं इक कदम तो दो कदम हटती मेरी मंजिल

Yun besabab jeete chale jaane se kya haasil,
Kuchh to khabar ho kya hai meri aakhiri manzil.

यूँ बेसबब जीते चले जाने से क्या हासिल,
कुछ तो खबर हो क्या है मेरी आखिरी मंजिल.

Do jahan mat dhoondh kuchh baahar nahin “Ashok”,
Bhiitar Tere hi hai wo teri muntazir manzil

दो जहाँ मत ढूँढ कुछ बाहर नहीं “अशोक”,
भीतर तेरे ही है वो तेरी मुन्तज़िर मंजिल.

This entry was posted in Ghazals, My Poems. Bookmark the permalink.

Leave a Reply