Maun…

मौन क्या है?

मौन कोई वस्तु है न,
मौन कोई व्यक्ति है,
भार है इसका न कोई,
न ही कोई शक्ति है,
है नहीं अस्तित्व इसका,
ये है एक अनुपस्थिति
अभिव्यक्ति की.

पर तुम्हारा मौन…

है हिमालय से भी भारी
ह्रदय पर,
गर्जता है कान में,
किसी सिन्धु सा,
झकझोरता अस्तित्व,
झंझावात सा.
चीरता उर को मेरे
गहराई तक,
और मेरे मर्म को
है पीर देता
मर्म-अन्तक.

Maun kya hai?

Maun koi vastu hai na,
maun koi vyakti hai,
bhaar hai iskaa na koi,
na hi koi shakti hai,
hai nahin astitva iskaa,
ye hai ek anupasthiti
abhivyakti kii.

par tumhaaraa maun…

Hai himalay se bhii bhaarii,
hriday par,
garjataa hai kaan me,
kisi sindhu saa,
jhakjhortaa astitva,
jhanjhaavaat sa.
cheertaa ur ko mere
gehraaii tak,
aur mere marm ko
hai peer detaa
marm-antak.

This entry was posted in Hindi, My Poems. Bookmark the permalink.

Leave a Reply