Tum Bhi Likha Karo kavita

तुम भी लिखा करो कविता
दिल के सोये अरमान जाग जायेंगे
कोशिश करोगे जब सुनाने की
करीबी दोस्त भी दूर भाग जायेंगे

तुम भी लिखा करो कविता
self diagnosis का अच्छा तरीका है
अच्छी लिखी तो mind creative है
घटिया लिखी तो दिमाग खिसका है.

तुम भी लिखा करो कविता
मन फालतू ख्यालों से रीत जाता है
और कोई फायदा हो न हो
किसी Queue में waiting का टाइम अच्छा बीत जाता है.

🙂 🙂 🙂

This entry was posted in My Poems. Bookmark the permalink.

Leave a Reply